दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार आयोजन हुआ समापन

ओबरा सोनभद्र राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ओबरा एवं भारतीय लेखा परिषद मिर्जापुर शाखा के तत्वावधान में चल रहे दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार मैनेजिंग पर्सनल फाइनेंस ड्यूरिंग कोविड-19 का समापन बृहस्पतिवार की देर सायं संपन्न हुआ।जिसमे समापन सत्र के मुख्य अतिथि डॉ ज्ञान प्रकाश वर्मा क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी वाराणसी ने बचत और विनियोग को समझाते हुए बैंकों के ओवरड्राफ्ट एनपीएस पर प्रकाश डाला तथा इस कार्यक्रम को सोनभद्र जिले में वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम की एक अनोखी उपयोगी शुरुवात बताते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ प्रमोद कुमार को बधाई दी एवं कार्यक्रम सचिव डॉ विकास कुमार के इस पहल की सराहना की साथ ही कहा की वर्क फ्रॉम होम के अन्तर्गत ओबरा महाविद्यालय के सभी शिक्षक एवं कर्मचारी अपने दायित्वों को अच्छी प्रकार पूरा कर रहे हैं।इसके पूर्व दूसरे दिन तृतीय तकनीकी सत्र का संचालन कर रहे डॉ सुनील कुमार ने मुख्य वक्ता प्रो मानस पाण्डेय वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय एवं राकेश कुमार सामान्य प्रबन्धक(विधि) सेबी एन आर ओ दिल्ली का स्वागत किया।प्रो मानस से बचत के विभिन्न पहलुओं को बताया तो वही राकेश कुमार ने कोविड-19 के दौरान कुछ लीगल हियरिंग्स के बारे में प्रकाश डाला।अन्त में डॉ  सुनील कुमार ने धन्यवाद दिया।दूसरे दिन के चौथे व अन्तिम सत्र का शिर्षक कोविड 19 के दौरान आय व व्यय के मध्य सम्बंध था। इसका संचालन कर रहे डॉ विकास कुमार ने मुख्य वक्ता के रुप में पधारे प्रो एच के सिंह बीएच यू और प्रो आलोक कुमार चक्रवाल सौराष्ट्र विश्वविद्यालय राजकोट का स्वागत किया।प्रो एच के सिंह ने आय व्यव्य की एक पुरानी कहावत कहि कि अपने कपड़े के हिसाब से अपना कोट बनवाएं तथा प्रो आलोक चक्रवाल ने कहा कि इच्छाओं को त्यागकर हम अपने व्यय को नियंत्रित कर सकते हैं हमने इच्छाओं को जरूरत से ज्यादा कर दिया है जिसकी वजह से आय व व्यय में असामंजस्य होता है।सत्र के अंत में डॉ विकास कुमार ने मुख्य वक्ताओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि कोविड-19 ने हमे यह अवसर प्रदान किया है कि हम अपने जरूरत व इक्षाओं के अंतर को कम कर सके क्योंकि इस समय हम अपने इच्छाओं को कम करके केवल जरूरत की वस्तु ही क्रय कर रहे है और अपनी इच्छा को कम कर रहे हैं। समापन सत्र के अध्यक्ष महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ प्रमोद कुमार ने अपने सम्बोधन में पर्सनल फाइनेंस को बताते हुए यह कहा कि ओबरा पीजी कॉलेज में वेबिनार आयोजित कराने के सहयोग के लिए भारतीय लेखा परिषद मिर्जापुर शाखा के अध्यक्ष डॉ शैलेश द्विवेदी सहित महाविद्यालय के समस्त शिक्षकों इस वर्क फ्रॉम होम के तहत बधाई दिया।प्रो पवनेश कुमार डीन स्कूल ऑफ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट साइंस महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय मोतिहारी बिहार एवं शोध पत्र के प्रस्तुति सत्र के चेयर पर्सन ने दो शोध पत्रो को वेस्ट पेपर अवॉर्ड ऑफ वेबिनार घोषित किया। जिसमें याश्मीन बेगम व जीशान अली अहमद असिस्टेंट प्रो स्वदेशी कॉलेज ऑफ कामर्स,गुवाहाटी,आसाम व शशांक श्रीवास्तव के एम काम डीएवी पीजी कॉलेज वाराणसी का था।प्रो पवनेश  कुमार ने ओबरा पी जी कॉलेज को एवं डॉ विकास कुमार आयोजक सचिव को वेबिनार के सफल आयोजन की बधाई देते हुए कहा कि इस स्तर के आयोजन अभी विश्वविद्यालय में नहीं हो पा रहे हैं।अंत में डॉ शिशिर पाण्डेय ने सबका धन्यवाद किया इस कार्यक्रम में डॉ दीपक मिश्रा,दीपक कुमार,स्नेहांषु वर्मा सहित तमाम सेबी के रिसोर्स पर्सन उपस्थित रहें।
सोनभद्र से ब्यूरो चीफ दिनेश उपाध्याय की रिपोर्ट