मुख्यमंत्रियों के खिलाफ कांग्रेस ने इस बार रचा है बड़ा चक्रव्यूह….

छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश के बाद राजस्थान में भी CM को खिलाफ कांग्रेस ने उतारा अपना कद्दावर प्रत्याशी !!
नई दिल्ली 17 नवंबर 2018। कांग्रेस ने इस बार भाजपा शासित मुख्यमंत्रियों को घेरने की कड़ी रणनीति तैयार की है। राजनांदगांव में मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ जहां अटलजी की भतीजी करुणा शुक्ला को उतारा गया था, तो वहीं मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ अरूण यादव और अब राजस्थान में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के खिलाफ जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को चुनाव मैदा में उतारा है। आज कांग्रेस ने 32 प्रत्याशियों की सूची जारी की, जिसमें झालरापाटन से भी प्रत्याशी के नाम का ऐलान किया है। झालरापाटन वसुंधरा का चुनाव क्षेत्र है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया को उनके घर में ही घेरने के लिए सबसे बड़ा दांव माना जा रहा है। बीजेपी के पूर्व वरिष्ठ नेता और अटल सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह ने हाल ही में कांग्रेस ज्वाइन किया था।बीजेपी संस्थापक सदस्य के रूप में जसवंत सिंह की बाड़मेर इलाके में एक पहचान रही है. मगर उनके बेटे मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस ज्वॉइन करने के बाद बाड़मेर की राजनीतिक परिस्थितियां बदल गईं. मानवेंद्र सिंह बाड़मेर के शिव विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक थे. पिछले महीने 17 अक्टूबर को उन्होंने राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कांग्रेस ज्वाइन कर लिया था.बीजेपी का दामन छोड़ने वाले शिव सीट से विधायक मानवेंद्र सिंह पूर्व में बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं. 2004 के लोकसभा चुनाव में मानवेंद्र सिंह के नाम सबसे ज्यादा मतों से जीतने का रिकॉर्ड है. सिंह ने उस समय 2,72000 से भी अधिक मतों से जीत दर्ज की थी।मानवेंद्र सिंह राजनीति के अलावा खेल और पत्रकारिता से भी जुड़े हैं। वे आज भी अंग्रेजी अखबारों के लिए लिखते हैं। वे वर्तमान में राजस्थान फुटबाल संघ के प्रदेशाध्यक्ष होने के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर भी फुटबॉल संघ के उपाध्यक्ष भी हैं। प्रारंभिक पढ़ाई अपने गांव जसोल में करने वाले सिंह ने आगे की पढ़ाई अजमेर के मेयो कॉलेज और फिर लंदन में की।

गोपाल दास लश्करी