मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा को राहत, 2 मार्च तक अंतरिम जमानत बरकरार

एक राहत की खबर मिली है। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में उनकी अग्रिम जमानत को बरकरार रखते हुए सुनवाई 2 मार्च तक टाल दी है। यानी वाड्रा पर छाया गिरफ्तारी का संकट फिलहाल टल गया है।

वाड्रा से मनी लॉन्ड्रिंग केस से लेकर जमीन घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ हो चुकी है। पिछली सुनवाई में कोर्ट ने रॉबर्ट वाड्रा को गिरफ्तारी से राहत देते हुए ईडी के सामने पेश होने का आदेश दिया था। जिसके बाद तीन अलग-अलग बुलाकर वाड्रा से घंटों तक पूछताछ की गई। कोर्ट ने रॉबर्ट वाड्रा को 16 फरवरी तक गिरफ्तारी से राहत दी थी। जिसके बाद आज फिर इस मसले पर सुनवाई हुई।

ये भी पढ़े…जमीन घोटाले को लेकर रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ FIR दर्ज, ये है पूरा मामला

कोर्ट में क्या हुआ
ईडी ने कोर्ट से कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा कुछ डाटा और जानकारी है, जो जुटानी है, और इसके लिए रॉबर्ट वाड्रा की हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत है। ईडी के वकील ने यह भी कहा कि वाड्रा लगातार राजनीतिक बदले से कार्रवाई का आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने फेसबुक पर लिखा है कि उन्हें प्रताड़ित किया गया। ईडी ने सवाल उठाया कि क्या पूछताछ करना, प्रताड़ना है?

वाड्रा के वकील केटीएस तुलसी ने कोर्ट को आश्वस्त किया कि वह पूछताछ में पूरा सहयोग करेंगे। तुलसी ने बताया कि वाड्रा से 23 घंटे से ज्यादा पूछताछ हो चुकी है। हालांकि, इस पर ईडी ने कहा कि ईडी दफ्तर में होना और सवाल होने में फर्क है। इस पर तुलसी ने कहा कि वाड्रा ने सैकड़ों सवालों के जवाब दिए हैं।

ये भी पढ़ें…रॉबर्ट वाड्रा के ठिकानों पर 16 घंटे तक छापेमारी, रात 3 बजे लौटी ईडी

तमाम दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने रॉबर्ट वाड्रा और इस केस के दूसरे आरोपी मनोज अरोड़ा की अग्रिम जमानत 2 मार्च तक बढ़ा दी है। साथ ही कोर्ट ने यह भी आदेश दिया है कि आवश्यकता पड़ने पर दोनों को ईडी के सामने पेश होना होगा।
इससे पहले शुक्रवार को रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी एक कंपनी से जुड़ी 4.62 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर ली। इन संपत्तियों में एक दिल्ली की है, जो सुखदेव विहार में है। वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट के मालिकाना वाली यह प्रॉपर्टी करीब साढ़े चार करोड़ की है।

रॉबर्ट वाड्रा इस महीने ईडी के अधिकारियों की पूछताछ का सामना कर रहे हैं। विदेश से लौटने के बाद दिल्ली में ईडी अफसरों ने उनसे तीन बार पूछताछ की। कांग्रेस महासचिव बनने के बाद भारत लौटीं प्रियंका गांधी वाड्रा खुद अपने पति रॉबर्ट वाड्रा को ईडी दफ्तर छोड़कर आई थीं, जिसके बाद उन्हें महासचिव की जिम्मेदारी संभाली थी। मैराथन पूछताछ में रॉबर्ट वाड्रा ने लंदन में प्रॉपर्टी होने से इनकार किया था।

इसके बाद बीकानेर के जमीन घोटाले में भी उनसे पूछताछ हुई है। प्रियंका गांधी जिस दिन लखनऊ में रोड शो कर रही थीं, उस वक्त रॉबर्ट वाड्रा अपनी मां मौरीन वाड्रा के साथ जयपुर पहुंचे थे, जहां अगले दिन उनसे ईडी ने पूछताछ की। वाड्रा से पूछा गया कि स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी एलएलपी में आपकी (वाड्रा) और आपकी मां की कितनी-कितनी भागीदारी है? साथ ही जमीन खरीद के लिए पैसा कहां से आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.