बिजली बिल माफ करने और 200 रुपये हर महीने की दर पर बिजली देने का प्रावधान

भोपाल: मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ‘संबल योजना’ फिर से आरम्भ करने का फैसला किया है. इस हेतु उन्होंने अधिकारियों को निर्देश भी जारी कर दिए हैं. वर्ष 2018 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से ऐन पहले शिवराज​ सिंह चौहान ने संबल योजना आरम्भ की थी. इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों के पुराने बिजली बिल माफ करने और 200 रुपये हर महीने की दर पर बिजली देने का प्रावधान था.

किन्तु विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिली शिकस्त के बाद शिवराज सिंह चौहान की यह महत्वकांक्षी योजना भी ठप्प हो गई. मध्य प्रदेश में कमलनाथ की अगुवाई में 15 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद कांग्रेस सत्ता में आई. कमलनाथ ने इस योजना को बंद कर दिया. कमलनाथ की सरकार केवल 15 महीने टिक सकी. ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों ने कमलनाथ सरकार से बगावत कर दी.

अपनी सरकार के अल्पमत में आने के बाद बीते 20 मार्च को कमलनाथ ने सीएम पद से त्यागपत्र दे दिया. शिवराज सिंह चौहान ने 25 मार्च को चौथी बार मध्य प्रदेश के सीएम के तौर पर शपथ ग्रहण की. अब शिवराज सिंह चौहान ने अपने फिर से अपनी योजनाओं को लागू करना आरम्भ किया है. अधिकारियों के साथ सोमवार को हुई मीटिंग में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वह गरीबों की अनदेखी नहीं होने देंगे.